उत्तराखंड की संस्कृति से जुड़ा पर्यावरण संरक्षण का महोत्सव है हरेला: श्रीमहंत रविंद्रपुरी




: हरेला को पखवाड़ा के रूप में मनाएगा अखिल भारतीय सनातन परिषद
: युवा विंग ने विभिन्न प्रजाति के फलदार पौधों का किया रोपण


हरिद्वार: अखिल भारतीय सनातन परिषद युवा विंग की ओर से उत्तराखंड का लोक पर्व हरेला को पखवाड़ा के रूप में मनाते हुए पौधारोपण किया गया। मुख्य अतिथि अखिल भारतीय सनातन परिषद के संस्थापक अध्यक्ष श्रीमहंत रविंद्र पुरी महाराज का पदाधिकारियों ने फूल मालाओं और पटका पहनाकर स्वागत किया।


मुख्य अतिथि अखिल भारतीय सनातन परिषद के संस्थापक अध्यक्ष श्रीमहंत रविंद्र पुरी महाराज ने विधि विधान से मंत्रोच्चार के बाद रुद्राक्ष का पेड़ लगाया। इसके अलावा अमरूद, आम, जामुन, पीपल, बरगद, नीम, आंवला का पौधारोपित किया। उन्होंने सभी को पेड़ों के संरक्षण का संकल्प दिलाया।


इस दौरान संस्थापक अध्यक्ष श्रीमहंत रविंद्रपुरी महाराज ने कहा कि हरेला पर्व उत्तराखंड की लोक परंपराओं तथा लोक संस्कृति से जुड़ा पर्यावरण संरक्षण का महोत्सव है। हरेला पर्व के माध्यम से पर्यावरण संरक्षण का संदेश मिलता है। कहा कि पौधारोपण के समय औषधीय व स्वास्थ्यवर्द्धक पौधों के रोपण को विशेष महत्व दिया जाना चाहिए।

राष्ट्रीय महामंत्री पुरुषोत्तम शर्मा ने कहा कि हरेला पर्व हरियाली यानि पर्यावरण से जुड़ा हुआ है जो समृद्धि का प्रतीक है। कृषि प्रधान देश भारत की कृषि संस्कृति का प्रतिनिधित्व करता है। हरेला पर्व कुमाऊं क्षेत्र में धूमधाम से मनाया जाता है और जनमानस के मन में रचा-बसा है। हरेला पर्व के साथ कुमाऊं में श्रावण मास की शुरुआत होती है। कुछ स्थानों पर प्रकृति संरक्षण के रूप में भी हरेला मनाए जाने का प्रचलन है।

अखिल भारतीय सनातन परिषद युवा विंग के प्रदेश अध्यक्ष मानवेंद्र सिंह और प्रदेश महामंत्री सावन लखेरा ने कहा कि हरेला पर्व खुशियों, प्रकृति संरक्षण का प्रतीक है। कहा कि आज मनुष्य अपनी सुख-सुविधाओं के लिए संसाधनों को बढ़ा रहा है जिससे कि प्रकृति का दोहन हो रहा है। वनों के संरक्षण व संवर्द्धन के लिए सभी की जन सहभागिता से वृक्षारोपण किया जाना नितांत आवश्यक है। ताकि जो जल संकट की समस्या उत्पन्न हो रही है वह समस्या उत्पन्न न होने पाए। आने वाली पीढ़ी को हम जल संकट से बचा सकें। इसके लिए यह जरूरी है कि जिन वृक्षों का रोपण किया जा रहा है उनके संरक्षण व संवर्द्धन की भी जिम्मेदारी लेनी नितांत आवश्यक है।

पौधरोपण कार्यक्रम में
राष्ट्रीय सचिव प्रचार प्रसार सतीश वन,महंत रवि पुरी,उमेश त्रिपाठी,अजय गोयल,धीरेंद्र प्रताप सिंह,अतुल चौहान,अतुल खोरी गोपाल,सत्येंद्र सिंह,अरुण चौहान, करण गिरि,अजय सिंह,प्रवीण ध्यानी आदि मौजूद रहे।

  • Related Posts

    भगवान शिव को प्रिय है श्रावण मास:श्रीमहंत रविंद्रपुरी

    हरिद्वार अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद एवं श्री मनसा देवी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष श्रीमहंत रविंद्रपुरी महाराज ने सावन के पहले सोमवार पर निरंजनी अखाड़ा स्थित चरण पादुका मंदिर में कांवड़…

    अखाड़ा परिषद अध्यक्ष ने की राज्य कैबिनेट के निर्णय का स्वागत

      उत्तराखंड के चारों धाम श्रद्धालुओं की आस्था का केंद्र हैं : रविंद्रपुरी अखाड़ा परिषद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का स्वागत,अभिनंदन करेगा   हरिद्वार। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद एवं मनसा…

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    You Missed

    भगवान शिव को प्रिय है श्रावण मास:श्रीमहंत रविंद्रपुरी

    • By Admin
    • July 22, 2024
    • 3 views
    भगवान शिव को प्रिय है श्रावण मास:श्रीमहंत रविंद्रपुरी

    अखाड़ा परिषद अध्यक्ष ने की राज्य कैबिनेट के निर्णय का स्वागत

    • By Admin
    • July 20, 2024
    • 3 views
    अखाड़ा परिषद अध्यक्ष ने की राज्य कैबिनेट के निर्णय का स्वागत

    मां भगवती की शक्ति से बड़ी संसार में कोई शक्ति नहीं:श्रीमहंत रविंद्रपुरी

    • By Admin
    • July 14, 2024
    • 3 views
    मां भगवती की शक्ति से बड़ी संसार में कोई शक्ति नहीं:श्रीमहंत रविंद्रपुरी

    Haridwar News जिस्मफिरोशी में लिप्त 8 महिलाओं सहित 19 आरोपी दबोचे

    • By Admin
    • July 12, 2024
    • 5 views
    Haridwar News जिस्मफिरोशी में लिप्त 8 महिलाओं सहित 19 आरोपी दबोचे

    गंगा की स्वच्छता की स्वच्छता को लेकर धरने पर बैठे पत्रकार रामेश्वर गौड़

    • By Admin
    • July 12, 2024
    • 6 views
    गंगा की स्वच्छता की स्वच्छता को लेकर धरने पर बैठे पत्रकार रामेश्वर गौड़

    वित्त मंत्री डाॅ. प्रेम चन्द अग्रवाल ने पुनर्गठन विभाग के अधिकारियों के साथ विभागीय समीक्षा बैठक की

    • By Admin
    • July 12, 2024
    • 7 views
    वित्त मंत्री डाॅ. प्रेम चन्द अग्रवाल ने पुनर्गठन विभाग के अधिकारियों के साथ विभागीय समीक्षा बैठक की